Breaking News
Home / उत्तराखण्ड / स्वतंत्रता दिवस की पूर्व संध्या से नहीं बिकेगी शराब : डीएम 

स्वतंत्रता दिवस की पूर्व संध्या से नहीं बिकेगी शराब : डीएम 

स्वतंत्रता दिवस की पूर्व संध्या से नहीं बिकेगी शराब : डीएम

निगम रोड़, सेलाकुई में कोरोना क्षेत्र को कन्टेंमेंट जोन घोषित

स्कूल फीस बढाने, सरकारी जमीन पर अतिक्रमण, बच्चों की परीक्षा में सम्मिलित होने हेतु कालेज को मुक्त करने आदि के मामलों में सुनवाई रही प्रमुख

आज के कोरोना वाॅरियर डाॅ0 जगमोहन सिंह राणा

भिक्षावृत्ति पर गंभीरता से और सख्ती से रोक लागाई जाय : डीएम

बैंक स्तर पर लम्बित आवेदनों का शीघ्रता से करें निस्तारण : जिलाधिकारी श्रीवास्तव

देहरादून। जिलाधिकारी डॉ आशीष कुमार श्रीवास्तव ने स्वतंत्रता दिवस के अवसर पर जनपद में 14 अगस्त को रात्रि रात्रि 8:00 बजे से 15 अगस्त को संपूर्ण दिवस में जनपद की समस्त देशी विदेशी मदिरा व स्प्रीट के अनुज्ञापन को पूर्णतया बंद रखने के आदेश दिए हैं।

उन्होंने वरिष्ठ पुलिस अधीक्षक देहरादून को समस्त पुलिस क्षेत्राधिकारियों,थानाध्यक्षों को जनपद की सभी देसी विदेशी मदिरा की दुकानों की बंदी एवं अवैध रूप से होने वाली मदिरा की बिक्री पर रोक लगाने के निर्देश दिए. उन्होंने जिला आबकारी अधिकारी एवं समस्त उप जिलाधिकारियों को अपने-अपने क्षेत्रों में आदेशों का कड़ाई से पालन करवाने के निर्देश दिए।

स्कूल फीस बढाने, सरकारी जमीन पर अतिक्रमण, बच्चों की परीक्षा में सम्मिलित होने हेतु कालेज को मुक्त करने आदि के मामलों में सुनवाई रही प्रमुख

जिलाधिकारी डाॅ आशीष कुमार श्रीवास्तव की अध्यक्षता में जनसुनवाई का कार्यक्रम आयोजित किया गया। आज आयोजित जनसुनवाई के दौरान 9 शिकायतें/समस्याएं आम लोगों द्वारा जिलाधिकारी के समक्ष प्रस्तुत की गई, जिनमें मुख्यरूप से अतिक्रमण, स्कूल फीस बढाने, सरकारी जमीन पर अतिक्रमण, बच्चों की परीक्षा में सम्मिलित होने हेतु कालेज को मुक्त करने, टैक्सी यूनियन द्वारा मीटिंग आहुत करने , मृत्यु प्रमाण पत्र दिये जाने को लेकर प्रमुखता से रही।

जनसुनवाई के दौरान इन्टेक कम्पनी द्वारा आर.सी वसूली में समय दिए जाने का अनुरोध किया गया। इस पर जिलाधिकारी ने आवश्यक कार्यवाही करने के निर्देश दिये गये। श्रीमती मन्जू द्वारा दून केम्ब्रिज स्कूल द्वारा पाल्यों की फीस बढाये जाने को लेकर अपनी समस्या रखी जिस पर जिलाधिकारी ने मुख्य शिखा अधिकारी को तत्काल आवश्यक कार्यवाही करने के निर्देश दिये। ठाकुरपुर विकासनगर के देशराज द्वारा सरकारी जमीन पर हो रहे अतिक्रमण का मामला उठाया इस पर जिलाधिकारी ने अपर जिलाधिकारी को अतिक्रमण हटाये जाने के निर्देश दिए, सरदार बंदा बहादुर अस्पताल के प्राचार्य द्वारा बच्चों की परीक्षा सम्पन्न कराने हेतु अस्पताल को मुक्त किये जाने की मांग की इस पर जिलाधिकारी ने अपर जिलाधिकरी को परीक्षा पूर्व स्कूल को मुक्त करने के निर्देश दिये। टैक्सी यूनियन के पदाधिकारी दीपक अग्रवाल द्वारा टैक्सी मैक्सी संचालन हेतु यूनियन की बैठक संचालित करने की मांग की जिस पर जिलाधिकारी ने नगर मजिस्टेªट सेे आवश्यक सम्पर्क के निर्देश दिए। सुरेन्द्र लाल द्वारा 8 जनवरी 2018 को हुई मृत्यु के सम्बन्ध में शिकायत की जिस पर जिलाधिकारी ने सम्बन्धित को आवश्यक पत्रावली प्रस्तुत करने के निर्देश दिये गये, इसी प्रकार रेणुका द्वारा निजी सम्पति पर किये जा रहे अतिक्रमण का मामला उठाया जिस पर एमडीडीए को तत्काल आवश्यक कार्यवाही के निर्देश दिये।

इसके अतिरिक्त सवरन फाउण्डेशन द्वारा प्लानटेशन कार्य में जिला प्रशासन द्वारा किये जा रहे सहयोग हेतु जिलाधिकारी को सम्मानित किया। साथ ही सदानंन्द विश्वास कत्थक धरोहर संस्था ने बेटी बचाओ, बेटी पढाओ कार्यक्रम में संस्था को सहयोग करने का प्रस्ताव दिया।

भिक्षावृत्ति पर गंभीरता से और सख्ती से रोक लागाई जाय : डीएम

भिक्षावृत्ति पर प्राथमिकता से रोक लगाई जायः जिलाधिकारी’’
जिलाधिकारी डाॅं0 आशीष कुमार श्रीवास्तव ने जिला बाल कल्याण समिति की बैठक में कलेक्ट्रेट सभागार में समिति के सदस्यों को निर्देशित किया कि जनपद में भिक्षावृत्ति पर गंभीरता से और सख्ती से रोक लागाई जाय इसके लिए भिक्षावृत्ति कराने वाले अभिभावकों को पहली बार बच्चों से भिक्षावृत्ति ना करवाने की काउन्सिलिंग करवाये और ऐसा ना करने को उन्हे समझायें। इसके बावजूद भी ना मानने पर सीधे प्राथमिकी (एफ.आई.आर)दर्ज करवायें। इसके अतिरिक्त ऐसे असामाजिक तत्वों और गिरोह की भी पहचान करें जो बच्चों की तस्करी व किडनैपिंग कर उनसे भिक्षावृत्ति करवातें हैं उनकी कोई भी सूचना मिलने पर तत्काल पुलिस सूचित कर ऐसे गिरोह का पर्दाफाश करें। उन्होंने किसी भी तरह के बाल अपराध की रोकथाम करने में समिति के सदस्यों को निर्देश दिये।

जिलाधिकारी ने कहा कि किसी भी जगह से रेस्क्यू किये गये बच्चों को सीधे बाल संरक्षण केन्द्र में ना लें जायें बल्कि कोविड-19 महामारी को देखते हुए उनके लिए बनाये गये पृथक क्वारेंटीन केन्द्र पर मानक के अनुसार पूरा समय बिताने और टेस्टिंग-स्वास्थ्य चैकअप में स्वस्थ पाये जाने पर ही उन्हें बाल संरक्षण गृह/केन्द्रों में अन्य बच्चों के साथ रखें, जिससे कोरोना फैलने का कोई भी अंदेशा ना रहे। उन्होंने कहा कि बाल बृह में बालकों को प्रवेश कराते समय आयु का विशेष ध्यान रखें तथा जिन बालक की आयु 10 वर्ष से अधिक हो उन्हे पृथक अथवा हरिद्वार स्थित बालक सरंक्षण गृह में ले जाये।
जिलाधिकारी ने कहा कि बाल सरंक्षण गृह में बच्चों की पढाई का भी पूरा-पूरा ध्यान रखा जाय, साथ ही उनको बेहतर भोजन, मनोरंजन, साफ-सफाई इत्यादि भी मानक अनुसार और बेहतर तरीक से प्रदान किया जाय। उन्होंने जनपद में विभिन्न स्थानों पर स्थित सरकारी/स्वैच्छिक संगठनों द्वारा संचालित किये जा रहे आवासीय सुविधाओं वाले बाल गृहों की भी नियमानुसार व नियमित निगरानी व निरीक्षण करने के निर्देश देते हुए कहा कि निरीक्षण के दौरान देखें कि बच्चों को वहां पर मानक के अनुसार सभी तरह की सुविधाएं यथा खानपान, रहन-सहन, मनोरंजन, सैनिटेशन के साथ ही सुरक्षित और अंहिसामुक्त वातावरण प्रदान किया जाय। समिति के सदस्यों ने जिलाधिकारी को अवगत कराया कि प्रर्वतकता स्पाॅन्सरशिप योजना जिसके तहत् 2000 रू0 मासिक की कम आमदनी वाले अभिभावक के बच्चों की शिक्षा व पोषण के लिए प्रत्येक माह 2000 रू0 की आर्थिक सहायता प्रदान की जाती है, किन्तु तहसील स्तर पर उनकी 2000 रू0 की आय वाला प्रमाण-पत्र बनवाने में दिक्कत आ रही हैं, जिससे ऐसे लोगों को योजना का लाभ नही मिल पा रहा है। इस पर जिलाधिकारी ने निर्देशित किया कि ऐसे बच्चों की सहायता के लिए एक समिति का गठन किया जाय, जिसमें ब्ब् के सदस्यों के साथ ही तहसील सदर पर तहसीलदार -पटवारी को भी सदस्य बनाकर ऐसे अत्यन्त लाचार बच्चों की सहायता के लिए जो भी वस्तुस्थिति अनुसार पाया जायेगा ऐसी समिति मासिक आय की रिपोर्ट का मूल्यांकन करेगी, जिस आधार पर आय प्रमाण पत्र दिया जा सकेगा।

इस दौरान बाल कल्याण समिति के सदस्यों ने जिलाधिकारी को अवगत कराया कि उन्होंने 3 माह में नियमानुसार जनपद में संचालित बाल गृहों का 6 बार (अपैल से जून तक ) निरीक्षण किया है तथा गत तीन माह में बाल कल्याण समिति के समक्ष कुल 6 प्रकरण प्रस्तुत हुए जिनमें से सभी का समिति के द्वारा निस्तारण किया गया।

बैठक में जिला प्राबेशन अधिकारी मीना बिष्ट तथा जिला बाल कल्याण समिति के सदस्यों सुधीर भट्ट, विमला देवी और इन्द्रजय असवाल उपस्थित थे।

बैंक स्तर पर लम्बित आवेदनों का शीघ्रता से करें निस्तारण : जिलाधिकारी श्रीवास्तव

‘‘ बैंक स्तर पर लम्बित आवेदनों का शीघ्रता से करें निस्तारण’’ यह निर्देश जिलाधिकारी डाॅ आशीष कुमार श्रीवास्तव ने कैम्प कार्यालय में मुख्यमंत्री स्वरोजगार योजना की समीक्षा बैठक में जनपद के बैंक समन्वयकों को दिये। उन्होंने मुख्यमंत्री स्वरोजगार योजना के तहत् बैंकों के पास आवेदनों के लम्बित रहने पर नाराजगी व्यक्त करते हुए सक्ती से निर्देश दिये कि आगामी मंगलवार तक इस सम्बन्ध में होने वाली समीक्षा बैठक तक हरहाल में आवेदनों पर 50 प्रतिशत् प्रगति पूरी करना सुनिश्चित करें। संतोषजनक प्रगति ना होने की दशा में सम्बन्धित बैंक की जिम्मेदारी तय कर दी जायेगी। उन्होंने स्टेट बैंक को 20 आवेदन तथा पंजाब नेशनल बैंक को 15 आवदनों को एक सप्ताह में निस्तारण करने का लक्ष्य देते हुए कहा कि सम्बन्धित शाखा प्रबन्धक को गंभीरता से इन्टिमेट कर दें कि आवेदन में जो भी कमियां हो अथवा औपचारिकताओं की पूर्ति के लिए सम्बन्धित आवेदक को व्यक्तिगत रूप से काॅल करके उसको पूरी करें तथा आवेदन को शीघ्रता से निस्तारण करें।

उन्होंने मुख्य विकास अधिकारी को भी इस सम्बन्ध में निर्देशित किया कि बैंको को मुख्यमंत्री स्वरोजगार योजना से सम्बन्धित आवेदनों के तेजी से निस्तारण हेतु लक्ष्य दें तथा लक्ष्य के अनुरूप लगातार माॅनिटिरिंग भी करें।

जिलाधिकारी ने महाप्रबन्धक उद्योग शिखर सक्सेना को निर्देशित किया कि प्रत्येक सप्ताह में मुख्यमंत्री स्वरोजगार योजना के तहत् अभ्यर्थियों का साक्षात्कार करवा लें तथा अधिक-से-अधिक आवेदन बैंकों को प्रेषित करें। इसके अतिरिक्त उन्होंने आवेदकों को पोर्टल पर आवेदन करते समय यदि कोई असुविधा हो रही है तो उसका त्काल निस्तारण करें तथा मुख्यमंत्री स्वरोजगार योजना का अधिक से अधिक प्रचार-प्रसार करें, जिससे लोगे अधिक संख्या में आवेदन करें तथा सरकार की लोन सब्सिडी इत्यादि के माध्यम से अपना स्वरोजगार प्रारम्भ कर सकें।

महाप्रबन्धक उद्योग शिखर सक्सेना ने इस दौरान जिलाधिकारी को अवगत कराया कि अब तक जनपद में मुख्यमंत्री स्वरोजगार योजना के तहत् कुल 132 आवेदन बैंकों को प्रेषित किये जा चुके हैं, जिसमें से 77 आवेदन स्टेट बैंक, पीएनबी, केनरा बैंक से सम्बन्धित हैं।

उन्होंने लोगों से अपील की है कि कोई भी व्यक्ति यदि अपना स्वरोजगार प्रारम्भ करना चाहता है और उसको थोड़ी वित्तीय आपूर्ति की आवश्यकता है तो वेबसाईट www.msy.uk.gov पर मुख्यमंत्री स्वरोजगार योजना के लिए आवेदन कर सकते है।

इस दौरान बैठक में मुख्य विकास अधिकारी नितिका खण्डेलवाल, लीड बैंक मैनेजर सी.एस मर्तोलिया, एसबीआई जिला समन्वयक नन्द किशोर आदि उपस्थित थे।

निगम रोड़, सेलाकुई में कोरोना क्षेत्र को कन्टेंमेंट जोन घोषित

डाॅ आशीष कुमार श्रीवास्तव ने अवगत कराया कि तहसील विकासनगर क्षेत्रान्तर्गत स्थित निगम रोड़, सेलाकुई में कोरोना वायरस संक्रमित व्यक्ति पाये जाने के फलस्वरूप सुरक्षात्मक उपाय अपनाते हुए उक्त क्षेत्र को कन्टेंमेंट जोन घोषित किया गया था। मुख्य चिकित्साधिकारी देहरादून को चिकित्सा सम्बन्ध कार्यवाही व व्यवस्था हेतु निर्देशित किया गया था। उक्त क्षेत्र में 14 दिन के एक्टिव सर्विलांस किया गया और इस दौरान किसी भी व्यक्ति में कोरोना वायरस के लक्षण नही पाये गये तथा मुख्य चिकित्साधिकारी की संस्तुति के आधार पर उक्त क्षेत्र को कन्टेंनमेंट क्षेत्र से मुक्त किया गया है।

जिलाधिकारी ने अवगत कराया है कि ऋषिकेश क्षेत्रान्तर्गत चन्द्रेश्वर नगर की न्यू त्रिवेणी कालोनी के गली नम्बर-01 में कोरोना वायरस संक्रमित व्यक्तियों के पाये जाने के फलस्वरूप आवश्यक सुरक्षात्मक उपाय अपनाते हुए उक्त क्षेत्र को कन्टेंनमेंट जोन घोषित किया गया है। चन्द्रेश्वर नगर की न्यू त्रिवेणी कालोनी के गली नम्बर-01 का वह हिस्सा जिसके पूरब दिशा में गली नम्बर-01 न्यू त्रिवेणी कालोनी अन्तिम छोर पर उदय मण्डल के मकान तक, पश्चिम दिशा में गली की शुरूआत में स्थित, उत्तर दिशा में जयराम साहनी का मकान तथा दक्षिण दिशा में प्रवीन सिन्हां का मकान अवस्थित है को कन्टेंनेमेंट जोन घोषित किया गया है।

जिलाधिकारी द्वारा दिये गये निर्देशों के अनुपालन में आज जनपद के विभिन्न क्षेत्रों में सार्वजनिक स्थानों पर मास्क न पहनने पर 268 व्यक्तियों के चालान किये गये।

जिला प्रशासन द्वारा आज जनपद के विभिन्न चयनित स्थानों पर अधिकृत 10 मोबाईल वैन के माध्यम से 107 क्विंटल फल-सब्जियों का विक्रय किया गया। विज्ञप्ति जारी किये जाने तक वायुसेवा के माध्यम से जौलीग्रान्ट एयरपोर्ट पर पंहुचे 215 प्रवासी व्यक्तियों को स्वास्थ्य जांच उपरान्त जनपद में क्वारेंनटीन किया गया है। इसी प्रकार जनपद के जौलीग्रान्ट एयरपोर्ट से विभिन्न प्रदेशों के 226 व्यक्तियों को गंतव्यों हेतु भेजा गया। विज्ञप्ति जारी किये जाने तक देहरादून रेलवे स्टेशन से दिल्ली हेतु 243 व्यक्ति गये। कोविड-19 के संक्रमण के दृष्टिगत जिला आपदा कन्ट्रोलरूम में 37 काल प्राप्त हुई, जिनमें 35 काॅल पास हेतु तथा 2 काल मेडिकल हेतु प्राप्त हुई। जनपद में विभिन्न विकासखण्डवार मनरेगा कार्याें के अन्तर्गत आतिथि तक 2094 निर्माण कार्य प्रारम्भ किये गये, जिनमें 27488 श्रमिकों को सैनिटाईजेशन एवं सामाजिक दूरी का अनुपालन करवाते हुए उक्त कार्य में योजित कर रोजगार उपलब्ध कराया गया।

आज के कोरोना वाॅरियर (शासकीय विभाग से), डाॅ0 जगमोहन सिंह राणा

लाॅकडाउन अवधि में शासकीय विभागों द्वारा किये गये उत्कृष्ट कार्यों के दृष्टिगत आज के कोरोना वाॅरियर (शासकीय विभाग से), डाॅ0 जगमोहन सिंह राणा,
नोडल अधिकारी, क्वारेंनटीन सेन्टर दे.दून

कोविड-19, के अन्तर्गत दिये गये दायित्वों का कुशलपूर्वक निर्वहन कर रहे हैं।

जिलाधिकारी डाॅं0 आशीष कुमार श्रीवास्तव ने यह भी बताया है कि जनपद में कोरोना वायरस संक्रमण के दृष्टिगत प्राप्त हुई रिपोर्ट में 40 व्यक्तियों की रिपोर्ट पाॅजिटिव प्राप्त हुई है। आज जनपद में 15 व्यक्ति कोविड-19 संक्रमण के उपचार के पश्चात स्वस्थ होकर डिस्चार्ज हुए हैं तथा वर्तमान में जनपद में 429 व्यक्ति कोविड-19 संक्रमण के दृष्टिगत उपचाररत् हैं। इसके अतिरिक्त जनपद में आज कुल 602 व्यक्तियों के सैम्पल लिये गये।

आशा कार्यकर्तियों द्वारा जनपद देहरादून अन्तर्गत बनाये गये विभिन्न कन्टेंनमेंट जोन में व्यक्तियों की सामुदायिक निगरानी का कार्य किया जा रहा है जिसके अन्तर्गत आतिथि तक 732 व्यक्तियों का फाॅलोअप किया जा चुका है। अन्य राज्यों से जनपद में पंहुचे कुल 478 व्यक्तियों को स्वास्थ्य परीक्षण के उपरांत क्वारेंनटीन किया गया।

आंगनबाड़ी कार्यकर्तियों द्वारा विकासखण्ड सहसपुर, रायपुर एवं डोईवाला में 127103 व्यक्तियों का सर्विलांस किया गया।

कोविड-19 संक्रमण की रोकथाम एवं नियंत्रण हेतु समस्त मेडिकल स्टोर पर बिना चिकित्सक के परामर्श की पर्ची के सर्दी, खांसी व जुकाम की दवाईयों का विक्रय प्रतिबन्धित किये जाने के उपरान्त समस्त मेडिकल स्टोर स्वामियों द्वारा जनपद में कुल 34 व्यक्तियों को चिकित्सकीय पर्ची के आधार पर सर्दी, खांसी व जुकाम की दवाईयां विक्रय की गयी। कोविड-19 संक्रमण से सुरक्षा के दृष्टिगत विभिन्न राजकीय चिकित्सालयों के चिकित्सकों/कार्मिको हेतु 62 एन-95, 855 ट्रिपल लेयर मास्क, 75 वीटीएम वायल, 37 सेनिटाइजर, 125 सर्जिकल गलब्स, 500 एग्सामिनेशन गलब्स वितरित किये गये।

Check Also

ये है सेवा : अधिवक्ता ने गम्भीर महिला मरीज को किया दो यूनिट प्लाज्मा दान

ये है सेवा : अधिवक्ता ने गम्भीर महिला मरीज को किया दो यूनिट प्लाज्मा दान …

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *