कोरोना कहर : सब्जी मंडी पर मेहरबानी से कहीं कम्युनिटी स्प्रेड न हो जाये डीएम साहब! विकल्प क्यों नहीं?

0
47
Listen to this article

कोरोना कहर : सब्जी मंडी पर मेहरबानी से कहीं कम्युनिटी स्प्रेड न हो जाये डीएम साहब! विकल्प क्यों नहीं?

क्या कोरोना ट्रेकर के रूप में नहीं घूम रहे हैं सब्जी व फल वाले दून में?

सब्जी आवश्यक बस्तु है तो क्या फैलने दिया जाना भी आवश्यक?

सब्जी, फल नहीं कोरोना तो नहीं बिक रहा है!

देहरादून। विगत 20 दिनों से दून की सब्जी मंडी निरंजनपुर और प्रशासन के बीच चल रहे कोरोना के लुकाछिपी के खेल पर यदि जिला प्रशासन ने जनहित में कडा़ निर्णय नहीं लिया तो जिले में इस कोरोना की स्टेज को कम्युनिटी स्प्रेड की स्टेज में बदलने में अब और अधिक देर नहीं लगेगी। ऐसी सम्भावना इस लिए और अधिक प्रबल होती दिखाई पड़ रही क्योंकि डीएम साहब इस सब्जी मंडी से जब तब मिलने वाले कोरोना संक्रमितों और उनकी बढ़ती हुई संख्या को हल्का देख रहे हैं और जनता पैनिक न हो, पैनिक न हो का भाषण देकर बहलाने का जो असफल प्रयास और ट्रायल कर रहे है उससे दिनों दिन हमार दून की सिथिति बजाए सुधरने के बिगड़ती ही जा रही है। टुकडो़ टुकडो़ में ब्लाकस् में सब्जी मंडी को एक दो दिनों के लिए बंद करके उसमें सैनेटाईजेशन को पर्याप्त मान लेने यह संक्रमण रुकने वाला नहीं हैं बल्कि प्रशासन शायद यह भूल कर रहा है कि यदि यही हाल रहा और सब्जी मंडी को पूर्णतयाः बंद नहीं किया गया तो अब यही कोरोना पूरे शहर में घूम रहे सब्जी, फल की  ठेली वालों और छोटे जगह जगह बैठे दुकानदार और संक्रमित सब्जी व फल से फैलने में देर नहीं लगायेगा!

ज्ञात हो कि जिलाधिकारी से इस संन्दर्भ में “पोलखोल” द्वारा लगभग पन्द्रह दिन पूर्व ही मंडी को बंद किये जाने और वैकल्पिक व्यवस्था को किये जाने को लेकर सवाल किया गया था, परन्तु डीएम उस समय मामले की गम्भीरता को न समझ कर बडे़ ही हल्के में लेकर की जा रही कार्यवाही को पर्याप्त मान रहे थे।

ज्ञात हो कि निरन्तर सब्जी मंडी से सम्बंधित मिल रहे कोरोना संक्रमितों की कान्ट्रेक्ट हिस्ट्री मिलना कठिन हघ नहीं नामुमकिन भी है सरकार। क्योंकि उसी सब्जी मंडी में आने वाली सब्जी व वेचने और खरीदने वाले बिक्रेता और थोक क्रेता व ठेली वाले पूरे जनपद में जगह जगह घूम घूम कर सब्जी बेच रहे हैं जिससे ट्रेसिंग असम्भव है और उससे फैलने वाला संक्रमण बिकराल हो सकता है!

क्या सब्जी व फल मंडी की व्यवस्था अलग अलग दून के अन्य जगहों पर बिकल्प के रूप में नहीं की जा सकती है? क्या आवश्यक वस्तु के कारण जनता में कोरोना फैलने दिया जा सकता है?

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here