आज मनाया गया झीलों के शहर नैनीताल का 179वा जन्मदिन, सभी धर्मों द्वारा मिली दुआएं 

0
40
Listen to this article

आज मनाया गया झीलों के शहर नैनीताल का 179वा जन्मदिन, सभी धर्मों द्वारा मिली दुआएं

(गुंजन मेहरा)

नैनीताल। जब से सृष्टि की रचना हुई है तब से ही नैनीताल अस्तिव में है। लेकिन अंग्रेजी सरकार के सौन्दर्यपूर्ण से सरोवर नगरी को खोजने के हिसाब से आज नैनिताल की 179 वी वर्षगांठ है। ऐतिहासिक रूप से प्राकृतिक सौंदर्य से लबालब नैनीताल हमेशा से ही पर्यटको की पहली पसंद रहा है। अंग्रेजी शासन में भी सरोवर नगरी उनके लिए पहली पसंद हुआ करती थी।आजादी के पूर्व आजादी का पश्चात सरोवर नगरी की दशा व दिशा में काफी बदलाव देखने को मिला।लेकिन आपने प्रकार्तिक सौंदर्य के चलते आज भी यह सरोवर नगरी के नाम से प्रसिद्द है। सबसे पहले पी बैरन द्वारा इस जगह कि खोज की गई थी जिसके बाद नैनीताल अस्तिव में आया था। यहां की अधवैत सुंदरता को देख कर पी बैरन क्षुब्ध थे। अपनी यात्रा के बाद उन्हीने ब्रिटिश सरकार को अवगत कराया कि एक ऐसी जगह हैं जो स्वर्ग के समान है। जिसके बाद ब्रिटिश सरकार के अधिकारियों ने नैनीताल का रुख किया। जिसके साथ ही नैनीताल में ब्रिटिश सरकार के सतब साथ आम लोगो की भी बसासत शुरू हुई। जिसके बाद आज तक यह सिलसिला जारी है।

इस अवसर पर नैनीताल के लोकल चैनल, ताल चैनल द्वारा नैनीताल मल्लीताल राम सेवक सभा मे आयोजित किया गया। इस वर्ष कोरोना महामारी के चलते नैनीताल का जन्मोत्सव सादगी के साथ मनाया गया। जिसमें चारो धर्मो के धर्मगुरुओं द्वारा प्रार्थना नैनीताल की खुशहाली के लिए प्रार्थना की गई। साथ ही मुख्यथिति आईएसएस कपिल जोशी व विशिष्ट अथिति डॉ एमएस दुग्ताल व पुजारी 2वC लोहनी द्वारा हवन किया गया। जिसके बाद केक काटकर नैनीताल का जन्मदिन मनाया। इस मोके पर जरूरतमंद व होनहार विद्यर्थियों को पाठ्य सामग्री दी गई।

आपको बता दे कि नैनीताल की खोज 18 नवम्बर 1841 को अंग्रेज व्यापारी पीटर बैरन ने भृमण के दौरान की थी। भारत के सबसे लोकप्रिय विश्व मानचित्र पर पर्यटन की दृष्टि से अतिविशिष्ट स्थान रखने वाले इस शहर को नैनीताल के नाम से जाना जाता है। आज अद्भुत खूबसूरत लाजवाब जैसे शब्द नैनीताल के नाकाफी है। देवपाटा, आयरपाटा, हांडी, चीना, आल्मा लॉज, शेर का डांडा, लकड़ियाकांता की पहाड़ियों के बीच नैनीताल की प्रशिद्ध नैनीझील को पीटर बैरन के खोज कर आज नैनीताल विश्व के मानचित्र में एक अलग पहचान चुका है। भारतवर्ष में नैनीताल अपनी एक अलग पहचान है। इस मौके पर ताल चैनल की ईशा साह, ताल चैनल निर्देशक दीपक बिष्ट भाजपा मंडल अध्यक्ष आनंद बिष्ट, पूर्व चेयरमैन मुकेश जोशी मोंटू,आशा फाउंडेशन की अध्यक्ष आशा शर्मा,समाज सेविका गीता शाह, नीलू एलेंस, प्रगति जैन, वर्षा, जगदीश बवाडी,राजेंद्र प्रसाद, ग्राम सेवक सभा के अध्यक्ष मनोज शाह, शालिनी आर्य ,राहुल पुजारी,धीरेंद्र चंद्र, शिव शंकर मजूमदार, सरदार जोगिंदर सिंह, आदि मौजूद रहें।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here